अरारी गाँव

अरारी गाँव का अस्तित्व वर्षों से जाना जाता है पूर्वजों के अनुसार ब्रिटिश साम्राज्य के समय राजधनवार तहसील क्षेत्र के अंतर्गत एकक्षत्र राज्य करने वाले राजा कमल जी ने इसका सीमांकन कर मालगुजारी वसूल करते थे|

इस पंचायत के अंतर्गत कुल आठ गाँव आते है

इस पंचायत के अंतर्गत कुल आठ गाँव आते है जिसमे 13 जातियों के लोग निवास करते है और एक-दूसरे के प्रति भाई चारे का रिस्ता रखते है|

 

अरारी गाँव

अरारी गाँव का अस्तित्व वर्षों से जाना जाता है पूर्वजों के अनुसार ब्रिटिश साम्राज्य के समय राजधनवार तहसील क्षेत्र के अंतर्गत एकक्षत्र राज्य करने वाले राजा कमल जी ने इसका सीमांकन कर मालगुजारी वसूल करते थे|

इस पंचायत के अंतर्गत कुल आठ गाँव आते है जिसमे 13 जातियों के लोग निवास करते है और एक-दूसरे के प्रति भाई चारे का रिस्ता रखते है|

इस गाँव का मुख्य आकर्षण केंद्र प्राकृतिक धरोहर के रूप में दो ओर से पहाड़ों से घिरा हुआ है गाँव में मुख्य रूप से दशहरा, होली, रामनवमी, कर्मा पूजा, ईद, रमजान आदि होते है|